Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबारिश से बदला मौसम, फिर से ठंड कमबैक

बारिश से बदला मौसम, फिर से ठंड कमबैक

- Advertisement -
  • इक्का-दुक्का इलाकों में हुई ओलावृष्टि
  • आज मौसम के साफ रहने की संभावना

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: पश्चिमी विक्षोभ के असर के चलते वेस्ट यूपी में मौसम बदल गया है। आधी रात से शुरू हुई बारिश सुबह तक रुक-रुककर बरसते रहे। गरज के साथ बदरा भी बरसे और कुछ स्थानों पर ओले भी पड़े है। जिस कारण से मौसम ठंडा हो गया और एक बार फिर से ठंड ने कमबैक किया है। इसके साथ ही दिन का तापमान भी बढ़ गया है। रविवार से मौसम के साफ रहने के आसार है।

10 28

वेस्ट यूपी में मौसम के बिगड़ने के साथ आधी रात को गरज के साथ बारिश शुरू हो गई। बारिश और तेज हवाओं का दौर शनिवार सुबह तक चलता रहा। रुक-रुककर बारिश के साथ तापमान गिरा और ठंड भी बढ़ गई। हवा की रफ्तार तेज थी और गरज के साथ बारिश के चलते दिन का तापमान करीब पांच डिग्री गिर गया।

शनिवार को भी दिन भर मौसम का मिजाज बदला बदला हुआ था। सुबह को हल्की बारिश के बाद कभी आसमान पर बादल तो कभी धूप के बीच आंख मिचौली का खेल चलता रहा। शाम को सूरज ढलने के बाद भी मौसम ठंडा दिखाई दिया। मौसम कार्यालय पर दिन का अधिकतम तापमान 21.0 डिग्री व न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। जबकि बारिश 7.8 मिमी दर्ज की गई। कृषि विवि के मौसम वैज्ञानिक डा. यूपी शाही का कहना है कि पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से वेस्ट यूपी में गरज के साथ बारिश हुई है, कुछ जगह पर हल्के ओले भी पड़े हैं।

बारिश में धुल गया प्रदूषण

बारिश के चलते फरवरी माह में सामान्य से ऊपर चल रहा एयर क्वालिटी इंडेक्स फिर से कम हो गया है। पिछले एक सप्ताह से एयर क्वालिटी इंडेक्स मेरठ, बागपत, बिजनौर, गाजियाबाद, नोएडा में 250 से 320 तक पहुंच गया था। वहीं, शुक्रवार रात शुरू हुई बारिश के चलते फिर से प्रदूषण में भारी गिरावट दर्ज की गई है। मेरठ का एयर क्वालिटी इंडेक्स 99 पर पहुंच गया है। वह पिछले काफी दिनों में सबसे बेहतर स्थिति में रिकॉर्ड किया गया है।

बारिश गेहूं के लिए वरदान

कृषि विवि के डा. सत्येंद्र खारी का कहना है कि फरवरी माह में हो रही बारिश सबसे ज्यादा गेहूं के लिए लाभकारी है। इस समय बारिश का होना गेहूं की फसल के लिए सबसे अच्छा रहेगा। जिस तरह से तेजी से तापमान में बढ़ोतरी हुई थी। गेहूं की फसल के लिए सही नहीं था। बारिश होने के चलते मौसम अच्छा रहेगा और तापमान में गिरावट के साथ मौसम में नमी बनी रहेगी। वहीं, आलू और सरसों की फसल के लिए यह बारिश सही नहीं है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments