Wednesday, May 25, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमोबाइल पर आ रहे बल्क मैसेज से बचें, नहीं तो लुटेंगे

मोबाइल पर आ रहे बल्क मैसेज से बचें, नहीं तो लुटेंगे

- Advertisement -
  • लिंक को क्लिक से उड़ जाते हैं खाते से पैसे
  • नेशनल साइबर हेल्पलाइन नंबर 1930 पर करें शिकायत

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: साइबर अपराध से बचाव के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि साइबर ठग लोगों को अपने चंगुल में फंसाने के लिए बल्क मैसेज और कॉल कर रहे हैं। मैसेज में दिए गए लिंक को क्लिक करने या झांसे में आने से मेहनत की गाढ़ी कमाई पर चूना लग सकता है । ऐसे में जागरूकता और सतर्कता ही साइबर ठगी से बचने का एकमात्र उपाय है।

उन्होंने कहा कि साइबर ठग प्री-अप्रूव्ड लोन, आॅनलाइन जॉब, रोमांचक कैशबैक पुरस्कार, गिफ्ट वाउचर, स्क्रैच कार्ड आदि का प्रलोभन देकर भोले-भाले लोगों, यहां तक कि पढ़े-लिखे लोगों को फंसाते हैं और लिंक के साथ एक एसएमएस प्राप्त होता है और लिंक को क्लिक करने का आग्रह किया जाता है। उन्होंने जनता को आगाह किया कि यदि आपने लिंक पर क्लिक किया तो जालसाज आपका खाता खाली कर देगा।

इसी प्रकार धोखेबाज आपको कॉल कर आपको यूपीआई ऐप पर कैशबैक प्राप्त करने के लिए कह सकते हैं। कैशबैक का दावा करने वाले ऐसे सभी लिंक, सोशल मीडिया पोस्ट या फोन कॉल भ्रामक हैं जो कैशबैक के लिए ग्राहकों से उनका यूपीआई पिन पूछते हैं। यूपीआई पिन की आवश्यकता तभी होती है जब आप अपने बैंक खाते से पैसा भेजते हैं। साथ ही बताया कि मैसेज और ई-मेल पर आए अनजान और नए क्यूआर कोड को स्कैन करने से बचें।

क्यूआर कोड स्कैन करने से पैसा आपके खाते से कटता है न की पेमेंट रिसीव होता है। यूपीआई ऐप से पेमेंट करते समय जब भी हमारा ट्रांजेक्शन सफल नहीं होता है या किसी कारण से पेमेंट रिसीव होने में देरी होती है तो हम तुरंत कस्टमर केयर नंबर की तलाश गूगल पर करते हैं। गूगल पर मौजूद अधिकांश कस्टमर केयर नंबर फेक है, जो साइबर ठगों के हैं। वे आपकी समस्या का समाधान बताते हुए आपसे बैंक डिटेल, यूपीआई डिटेल या एनिडेस्क, टीम व्यूअर, क्विक सपोर्ट जैसे रिमोट एक्सेस ऐप डाउनलोड कराकर आपका बैंक खाता खाली कर देते हैं।

उन्होंने अंजान नंबरों से आने वाले वीडियो कॉल को रिसीव न करने की सलाह दी। कहा कि साइबर ठग वीडियो कॉल कर वीडियो को अश्लील बना कर ब्लैकमैल कर पैसे की मांग कर रहे हैं। एसएसपी ने कहा कि साइबर ठगी की घटना होने पर तुरन्त साइबर हेल्पलाइन 1930 पर कॉल कर शिकायत दर्ज कराएं। शिकायत दर्ज कराते समय जरूरी जानकारी जैसे अपना मोबाइल नंबर, धनराशि निकासी की तिथि, बैंक खाता संख्या या वॉलेट आईडी या यूपीआई आईडी जिससे धनराशि की निकासी हुई है, ट्रांजेक्शन आईडी तथा उपलब्ध हो तो स्क्रीन शॉट देना होगा।

शिकायत दर्ज कराने के बाद सिस्टम द्वारा एक्नॉलेजमेंट शिकायतकर्ता को एसएमएस अथवा ई-मेल से प्राप्त होगा, जिसे 24 घंटों के भीतर अनिवार्य रूप से वेबसाइट पर पंजीकृत कराना होगा। इसके अलावा पुलिस लाइन स्थित साइबर सेल में भी साइबर अपराध की शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments