Friday, April 23, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutन सोशल डिस्टेंसिंग, न मास्क, बाजारों में भीड़ का बुरा हाल

न सोशल डिस्टेंसिंग, न मास्क, बाजारों में भीड़ का बुरा हाल

- Advertisement -
0
  • अलर्ट को लेकर मुख्यमंत्री के आदेशों का बाजार में असर का इंतजार
  • स्वास्थ्य विभाग दे रहा लगातार कोविड गाइड लाइन के पालन पर जोर

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: संक्रमण के तेजी से आ रहे केसों के बीच महानगर के सार्वजनिक स्थलों पर नजर आ रही लापरवाही के चलते कोरोना विस्फोट सरीखे हालात की आशंका स्वास्थ्य विभाग बार-बार जता रहा है। सीएमओ, मेडिकल व जिला अस्पताल तथा आईएमए सरीखे स्वास्थ्य संस्थान कोविड गाइड लाइन के सख्ती से पालन पर जोर दे रहे हैं, लेकिन उसके बाद भी जो नजारा बाजारों में दिखाई देता है।

उससे लगता है कि लोगों की लापरवाही शहर में एक बार फिर कोरोना को दावत दे रही है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का साफ कहना है कि सेकेंड वेव में कोरोना की रफ्तार बेकाबू है, लेकिन जो हालात नजर आ रहे हैं, उससे संक्रमण के केसों का बढ़ना तय है। गंभीरता तो यदि नहीं समझा तो बड़ी कीमत चुकानी होगी। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग की टीम तो अपने बेहतर प्रयास कर रही है, लेकिन लोगों का रवैया इन प्रयासों पर पानी फेरने पर तुला है।

बाजारों में बेकाबू भीड़

खरीदारी के नाम पर शनिवार को बाजारों में भीड़ का जो हाल था वो बाकई डराने वाला था। मेडिकल प्राचार्य डा. ज्ञानेन्द्र कुमार के आग्रह पर जनवाणी संवाददाता ने भीड़ का जायजा लेने के लिए मेडिकल के गेट से ही शुरूआत की।

  • शास्त्रीनगर सेंट्रल मार्केट में खूब चहल पहल थी। लोगों की भीड़ देखकर ऐसा लगता था मानों कोरोना का खौफ नहीं।
  • नई सड़क पर भी कमोवेश ऐसे ही हालात थे। यहां भी खाने-पीने के सामान की खरीदारी करने के चक्कर में लोग सोशल डिस्टेंसिंग को भूले नजर आए।
  • हापुड़ स्टैंड चौराहे पर तो भीड़ की हालात ऐसी थी मानों जो कुछ भी खरीदारी करनी है आज ही कर ली जाए, यहां किसी ने भी मास्क तक नहीं लगाया था।
  • बुढ़ानागेट चौराहे पर भी तमाम दुकानों पर व बाजार में खूब चहल-पहल नजर आयी। यह स्थिति खैरनगर व जत्तीवाड़ा तथा जिला अस्पताल के आसपास भी थी।
  • सदर बाजार में तो ऐसा लगता था कि मानों कोरोना संक्रमण का दौर खत्म हो गया है। विकेंड के चलते आबूलेन बोम्बे बाजार व सदर में कोई सोशल डिस्टेंसिंग नहीं दिखाई दी।
  • आबूलेन, बेगमपुल, लालकुर्ती पैठ एरिया में लोगों की भीड़ देखकर ऐसा लगा मानों कोरोना संक्रमण भीड़ देखकर डरकर भाग जाएगा, इसलिए लोग सड़कों पर हैं।

तय है हालात का बिगड़ना

संक्रमण के केसों का बढ़ना और सब कुछ जानते हुए भी सावधानी को लेकर लोगों का रवैया हालात को ज्यादा बिगाड़ने वाला नजर आता है। तमाम विशेषज्ञों का कहना है कि यह उचित नहीं। दूसरों को खतरे में डालने के साथ ही अपने और परिवार को भी संक्रमण के खतरे में डालने की कोशिश न करें। विशेषज्ञों का मानना है कि पुलिस प्रशासन की सख्ती इस वक्तबेहद जरूरी है।

प्रशासन की एडवाइजरी

हालांकि संक्रमण के केसों के चलते सीएमओ ने प्रशासन की ओर से भी भीड़ के लिए एडवाइजरी जारी करने की जानकारी दी है, लेकिन जो हालात नजर आ रहे हैं उन्हें देखकर नहीं लगता कि लोग प्रशासन व पुलिस की एडवाइजरी को लेकर तनिक भी गंभीर हैं। इसको स्वास्थ्य विभाग ने लोगों से गाइड लाइन का पालन करने को कहा है।

ये कहना है सीएमओ

सीएमओ डा. अखिलेश मोहन का कहना है कि जो बेहतर प्रयास किए जा सकते हैं वो स्वास्थ्य विभाग का स्टॉफ कर रहा है, लेकिन यह जंग तभी जीती जा सकती है जब लोगों का सहयोग मिलेगा। सावधानी बरती जानी बेहद जरूरी है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments