Monday, December 6, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeDelhi NCRBig Breaking: 27 को निहंग महापंचायत, किसान नेताओं की उड़ी नींद!, जानिए...

Big Breaking: 27 को निहंग महापंचायत, किसान नेताओं की उड़ी नींद!, जानिए पूरा मामला

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: नए कृषि कानून को रद्द करने के लिए लंबे समय से चल रहे किसान आंदोलन से बड़ी खबर आ रही है। किसानों के आंदोलन में बड़ी दरार पड़ती दिख रही है। इसका कारण है निहंगों के द्वारा बुलाई जा रही महापंचायत। किसान आंदोलन से मिल रही ताजा अपडेट के अनुसार निहंगों ने 27 अक्टूबर को महापंचायत बुलाई है।

कुंडली बार्डर पर युवक की बर्बर ह’त्या के बाद अब नि’हंगों ने धर’नास्थल से वापस लौटने या रुकने को लेकर बहुमत के आधार पर निर्णय करने की तैयारी की है। इसके लिए निहंगों ने जनमत संग्रह करवाने का फैसला लिया है। निहंग 27 अक्टूबर को कुंडली बार्डर पर महापंचायत करेंगे। इसको धार्मिक एकता नाम दिया गया है। इस बैठक में जनमत संग्रह के आधार पर फैसला लिया जाएगा कि उन्हें कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन से वापस जाना चाहिए या नहीं। वहीं पुलिस कार्रवाई पर भी मंथन किया जाएगा।

हरियाणा एवं पंजाब से जुटेंगे निहंग

निहंग बाबा राजा राम सिंह का कहना है कि वह कुंडली बार्डर पर वह किसानों की हिफाजत करने के लिए बैठे हैं। हमेशा से वह प्रदर्शनों में किसानों व सिखों की हिफाजत करते आए हैं। अब 27 अक्टूबर को होने वाली महापंचायत में सिख कौम के बुद्धिजीविओं के अलावा संगत भी शामिल होगी। इसमें हरियाणा व पंजाब के निहंग शामिल होंगे। यहां पर महापंचायत में निहंग जो फैसला लेंगे, उसे पूरी संगत मानेगी।

हमने खुलेआम स्वीकार किया

वहीं, निहंग बाबा राजाराम सिंह ने कहा कि हम भागने वालों में से नहीं हैं। जो हमने किया है, उसे खुलेआम स्वीकार कर रहे हैं। अदालत में हमारे साथियों ने स्वीकार किया है कि हमने ही हत्या की है। हमने खुद ही पुलिस के सामने सरेंडर किया है।

योगेंद्र यादव पर निहंगों का पलटवार

इसके साथ ही उन्होंने एसकेएम नेता योगेंद्र यादव पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि योगेंद्र यादव को एसकेएम ने सिर चढ़ा रखा है। वह भाजपा व आरएसएस का बंदा है। उनके सामने आकर जवाब देकर दिखाएं। संयुक्त किसान मोर्चा ने बिना पूरा मामला जाने खुद को ऐसे अलग कर लिया, जैसे निहंग अपराधी हों।

पुलिस ने धर्म के मामले को समझे बिना कार्रवाई शुरू कर दी है। हम न तो धर्म के साथ बेअदबी बर्दाश्त करेंगे और न ही किसी का मनमाना दखल। इन सभी मुद्दों पर 27 को फैसला होगा। संगत फैसला करेगी तो निहंग वापस चले जाएंगे। संयुक्त किसान मोर्चा सोच ले, निहंगों के जाने के बाद उनकी हिफाजद करने वाला नहीं बचेगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments