Saturday, January 22, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकरनावल में धरने पर डटे किसानों ने भरी हुंकार

करनावल में धरने पर डटे किसानों ने भरी हुंकार

- Advertisement -
  • गाजीपुर बॉर्डर के आंदोलनरत किसानों के लिए भेजी खाद्य सामग्री व चंदा

जनवाणी संवाददाता |

सरूरपुर: कस्बा करनावल में पिछले नौ दिनों से धरने पर बैठे किसानों का अनिश्चितकालीन धरना नौवें दिन भी जारी रहा।जहां किसानों में धरने के प्रति जोश बढ़ता जा रहा है और किसानों की संख्या में भी इजाफा होता जा रहा है,तो वहीं दूसरी ओर मंगलवार को किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलनरत किसानों की सहायता के लिए खाने पीने का जरूरी सामान मैं चंदा इकट्ठा करके किसानों के एक जत्थे को रवाना किया।

गौरतलब है कि दिल्ली बॉर्डर पर पिछले एक महीने से भी ज्यादा से कृषि कानून को वापस लेने की मांग को लेकर डटे किसानों के समर्थन में कस्बा करनावल में बंगले वाले मंदिर में किसान उपभोक्ता मंच व क्षेत्रीय किसानों व भाकियू, रालोद सहित क्षेत्र के किसान संगठनों का अनिश्चितकालीन धरना चल रहा है।

इस अनिश्चितकालीन धरने के नौवें दिन किसानों में काफी जोश दिखाई दिया और धरना स्थल पर किसानों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। धरने के नौवें दिन किसानों ने हुंकार भरते हुए कहा कि सरकार किसी धोखे और बहकावे में ना रहे किसानों में कोई फूट पड़ने वाली नहीं है और किसान अपनी मांगे पूरी मंगवा मनवा कर रहेंगे। किसानों ने आह्वान किया कि मरते दम तक किसान आंदोलन करते रहेंगे।

वही धरनारत किसानों ने की एक टीम ने क्षेत्र में घूम कर दिल्ली में आंदोलनरत किसानों के लिए जरूरी सामान खाने-पीने की चीजें इकट्ठा की और चंदा इकट्ठा करके तहसील अध्यक्ष अशफाक प्रधान के नेतृत्व में एक जत्थे को खाद्य सामग्री लेकर गाजीपुर बॉर्डर के लिए भी ट्रैक्टरों को रवाना किया।

अनिश्चितकालीन धरने के नौवें दिन अध्यक्षता सिरदार सिंह संचालन कालूराम ने किया। इस मौके पर मनोज सभासद, डिंपल, मोंटी, गौरव, बिट्टू, मोनू, आकाश, संदीप, दीपक, जयवीर, विक्की आदि धरने के बाद खाद्य सामग्री लेकर दिल्ली के रवाना हुए।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments