Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसमर गार्डन विस्फोट: धर्मकांटे से मिला 30 बोरे बारूद, दो गिरफ्तार

समर गार्डन विस्फोट: धर्मकांटे से मिला 30 बोरे बारूद, दो गिरफ्तार

- Advertisement -
  • इंतजार के घर में बनते थे पटाखे, हादसे का सूत्रधार फरार
  • डीएम ने सौंपी एडीएम सिटी को जांच, बारूद को किया निष्क्रिय

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: समर गार्डन 60 फुटा रोड पर इंतजार के जमींदोज हुए मकान से मिले विस्फोटक पदार्थ के सबूतों ने पुलिस की राह आसान कर दी है। घटनास्थल से थोड़ी दूरी पर स्थित धर्मकांटे से पुलिस ने 30 बोरे गंधक और पोटाश आदि बरामद किया है। पुलिस को जानकारी मिली है कि विस्फोटक सामग्री इंतजार के मकान में जाने के लिये रखी थी जिससे पटाखे बनाये जाने थे। पुलिस पटाखे बनाने के मुख्य आरोपी बागपत निवासी मुस्तकीम को सरगर्मी से तलाश कर रही है। वहीं मकान मालिक समेत दो लोग गिरफ्तार किये गए हैं। जिलाधिकारी ने एडीएम सिटी को इस पूरे प्रकरण की जांच सौंपी है।

जैसा की लोगों को अंदेशा था कि इंतजार का मकान सिलेंडर फटने से जमींदोज नहीं हुआ है। हालांकि घटनास्थल से फटा हुआ सिलेंडर भी मिला था, लेकिन इसके बावजूद धमाके का सही सूत्रधार नहीं मिल रहा था। फोरेंसिक टीम ने जब सोमवार की रात एसएसपी रोहित सिंह सजवाण को जानकारी दी कि घटनास्थल पर विस्फोटक सामग्री के अंश मिले है। इससे पुलिस के कान खड़े हो गए।

10 26

सीओ कोतवाली अरविन्द चौरसिया ने बताया कि इंतजार के मकान से थोड़ा आगे युनुस का धर्मकांटा है। पुलिस को सटीक सूचना मिली थी कि धर्मकांटे पर आपत्तिजनक सामान रखा हुआ है। लिसाड़ीगेट पुलिस ने धर्मकांटे पर मयफोर्स के जब दबिश मारी तो वहां 30 बोरियों में काला पत्थर जैसा मिला। पुलिस ने धर्मकांटे में मौजूद स्टाफ से बोरियों के बारे में जानकारी ली तो कोई खास जानकारी नहीं दे पाया।

बाद में पुलिस ने स्टाफ से सख्ती से पूछताछ की तो पता चला कि बोरियों में रखा सामान गंधक और पोटाश आदि है जो पटाखे बनाने का काम आता है। सीओ कोतवाली ने मौके पर पहुंच कर तीस बोरियों को कब्जे में लिया और थाने ले आये। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि बारुद बरामद होने पर इंतजार और याकूब को गिरफ्तार किया गया है। वहीं जिलाधिकारी दीपक मीणा ने इस घटना की जांच एडीएम सिटी दिवाकर सिंह को सौंपी है।

मुख्य आरोपी का भाई है यूनुस

इंतजार के घर में विस्फोट के लिये बागपत के मुस्तकीम को मुख्य आरोपी बनाया गया है। बताया जा रहा है कि मुस्तकीम ही बागपत से पटाखे लाकर इंतजार के घर में रखवाता था। बाद में इंतजार के घर में पटाखे भी बनने शुरु हो गए थे। दरअसल युनुस और मुस्तकीम दोनों फरार है, इस कारण पुलिस को यह जानकारी नहीं मिल पाई है कि धर्मकांटे से बरामद विस्फोटक सामग्री किस काम के लिये लाई गई थी।

फ्रीज का कम्प्रेशर भी फटा

जिस वक्त इंतजार के घर पर धमाके के साथ मकान भरभरा कर गिरा उसी वक्त सिलेंडर भी फटा। पल भर में घर में रखे फ्रीज का कम्प्रेशर भी तेज आवाज के साथ फट गया। जिस जगह फ्रिज रखा हुआ था, उस जगह गड्ढा सा हो गया और फ्रीज पूरी तरह नष्ट हो गया। घर में रखा हर सामान चाहे वो क्राकरी हो, फोल्डिंग पलंग हो, बर्तन हो सभी विस्फोट की चपेट में आ गये।

टूटे मकान में रहने को मजबूर पड़ोसी

विस्फोट से जमींदोज हुए इंतजार के मकान के बगल में रहने वाले सरफराज और आदिल का मकान भी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुआ है। इसके बावजूद दोनों परिवार दहशत के बीच उसी मकान में रहने को मजबूर है। विस्फोट के कारण मकान में दरारें और दीवार से लेकर छतों को नुकसान हुआ है। परिवार के लोगों ने इंतजार के परिवार को बुरा भला कहते हुए कहा कि इन लोगों के गलत कामों से लाखों रुपये लग जाएंगे मकान को दुरुस्त कराने में।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments